मतवारो बादल आयें रे

हरी को संदेसों कछु न लायें रे

दादुर मोर पापीहा बोले

कोएल सबद सुनावे रे

काली अंधियारी बिजली चमके

बिरहिना अती दर्पाये रे

मन रे परसी हरी के चरण

लिसतें तो मन रे परसी हरी के चरण
Flag of India.svgThis user comes from India.

नमस्कार! मेरा नाम -रोहित(💌) है। मैं विकिमीडिया के परियोजनाओं पर सकारात्मक योगदान करने का प्रयास कर रहा हूँ।



हिन्दी विकिसम्मेलन 2020